1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. जानिए कब से शुरू हो रहा है सावन का पावन महीना, व्रत और पूजा विधि

जानिए कब से शुरू हो रहा है सावन का पावन महीना, व्रत और पूजा विधि

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली: मानसून के दस्तक के साथ ही भक्‍तों के मन में शिवभक्ति की भावनाएं हिलोरे मारने लगती हैं और सभी लोग सावन का इंतजार करना शुरू कर देते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, साल का पांचवां महीना माना जाने वाला सावन इस बार 25 जुलाई से शुरू होगा और 22 अगस्‍त को इसका समापन होगा। इस बार कुल 4 सोमवार पड़ेंगे।

व्रत का महत्व

पौराणिक काल से सावन के महीने में शिवजी की पूजा का विशेष महत्‍व बताया जाता रहा है। यह पूरा महीना जहां शिवजी की पूजा के लिए उत्‍तम माना जाता है तो वहीं हर सोमवार को शिवभक्‍त व्रत करके शिवजी की उपासना करते हैं। मान्‍यता है कि सावन के महीने में भोलेबाबा सर्वाधिक प्रसन्‍न होकर भक्‍तों की मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। इसी महीने में कांवड़िए कांवड़ लेकर चलते हैं और गंगाजल भरकर शिवजी की जलाभिषेक करते हैं। आइए आपको बताते हैं किन-किन तारीखों में इस बार पड़ रहे हैं सावन के सोमवार के व्रत।

व्रतों की सूची

सावन के प्रत्‍येक सोमवार को भक्‍तजन व्रत करके शिवजी की जलाभिषेक करते हैं और भांग, धतूरा और बेलपत्र चढ़ाकर पूजा करते हैं। महिलाएं अपने पति की दीर्घायु के लिए यह व्रत करती हैं और प्रार्थना करती है। मान्यता है कि सावन सोमवार के व्रत करने से भगवान शिव भक्त की हर मनोकामना पूरी करते हैं।

सावन का पहला सोमवार : 26 जुलाई, 2021

सावन का दूसरा सोमवार : 2 अगस्‍त, 2021

सावन का तीसरा सोमवार : 9 अगस्‍त, 2021

सावन का चौथा सोमवार : 16 अगस्‍त, 2021

व्रत और पूजा विधि

सोमवार को सुबह जल्‍दी उठें और स्‍नान करके श्रद्धापूर्वक शिवजी का स्‍मरण करें और व्रत करने का संकल्‍प लें। उसके बाद शिवजी का पानी से, दूध से, शहद से, गंगाजल से और दही से अभिषेक करें। उसके बाद बेलपत्र, फूल, फल, भांग, धतूरा चढ़ाकर ओम नम: शिवाय मंत्र का जप करते रहें। प्रसाद और भोग अर्पित करें। महिलाएं माता पार्वती को 16 श्रृंगार की वस्‍तुएं अर्पित करें। शिव चालीसा का पाठ करें और शिवजी की आरती करके पूजा का समापन करें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...