1. हिन्दी समाचार
  2. भाग्यफल
  3. Bhai Dooj 2021: जानें कब है भाई दूज? इस शुभ मुहूर्त में करें पूजन, पढ़े इससे जुड़ी पौराणिक कथा

Bhai Dooj 2021: जानें कब है भाई दूज? इस शुभ मुहूर्त में करें पूजन, पढ़े इससे जुड़ी पौराणिक कथा

Know when is Bhai Dooj? Worship in this auspicious time; दीपावली के दूसरे दिन भाई दूज का पर्व है। इस दिन बहनें अपने भाई के लिए लंबि उम्र का व्रत रखती है। वहीं भाई अपने इच्छानुसार बहन को दान करता है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : दीपावली (Diwali) के दूसरे दिन यानि गोवर्धन पूजा के अगले दिन भाई दूज (Bhai Dooj) का पर्व मनाया जाएगा। यह त्‍योहार भी राखी की तरह भाई बहन के प्रेम का त्योहार है। दीपावली के दो दिन बाद भाईदूज मनाने की परंपरा है। भाई बहन के स्नेह के इस पर्व का महत्व भी रक्षाबंधन से कहीं कम नहीं माना जाता है। भाईदूज के दिन बहन जहां भाई की लंबी उम्र की कामना करती है वहीं भाई अपनी बहन को सुख समृद्धि का आर्शीवाद देता है।

जानिए इस साल किस दिन है भाई दूज और क्या है शुभ मुहूर्त:

भाई दूज शुभ मुहूर्त

आपको बता दें कि इस साल भाई दूज का त्योहार 6 नवम्बर शनिवार के दिन मनाया जायेगा। इस दिन भाईयों को तिलक लगाने का शुभ मुहूर्त दोपहर 1.10 बजे से लेकर 3.21 बजे तक रहेगा। इस बार द्वितिया तिथि 5 नवंबर को रात्रि 11 बजकर 14 मिनट से लगेगी जो 6 नवम्बर को शाम 7 बजकर 44 मिनट तक बनी रहेगी।

भाई दूज मनाये जाने के पीछे की कहानी

पौराणिक कथाओं के अनुसार यम और यमुना भगवान सूर्य और उनकी पत्नी संध्या की संतान हैं। बहन यमुना की शादी के बाद भाई दूज के दिन ही यमराज अपनी बहन के घर गए थे। इस अवसर पर यमुना ने उनका आदर-सत्कार किया और उनके माथे पर तिलक लगाकर यमराज को भोजन कराया था। अपनी बहन के इस व्यवहार से खुश होकर यमराज ने बहन यमुना से वरदान मांगने को कहा। इस पर यमुना जी ने कहा कि मुझे ये वरदान दो कि इस दिन जो भी भाई अपनी बहन के घर जाकर तिलक लगवायेगा और बहन के हाथ का भोजन करेगा उसको अकाल मृत्य का भय नहीं होगा। यमराज ने उनकी ये बात मान ली और खुश होकर बहन को आशीष दिया। माना जाता है तब से ही भाई दूज मनाने की परंपरा चली आ रही है।

इस त्योहार से जुड़ी एक और पौराणिक कथा के अनुसार भाई दूज के दिन ही भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर राक्षस का वध किया था और वापस द्वारिका लौट कर आये थे। तब भगवान श्री कृष्ण की बहन सुभद्रा ने उनका स्वागत किया था और माथे पर तिलक लगाकर उनके दीर्घायु होने की कामना की थी।

(नोट: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं।  RNI news इनकी पुष्टि नहीं करता है।)

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...