Home देश सावधान : कोरोना से भी खतरनाक वायरस से डरे वैज्ञानिक, मचा सकता है पूरी दुनिया में तबाही

सावधान : कोरोना से भी खतरनाक वायरस से डरे वैज्ञानिक, मचा सकता है पूरी दुनिया में तबाही

32 second read
0
170

रियो डी जेनेरिया : कोरोना महामारी से पूरी दुनिया त्रस्त है, जिसे लेकर चारों तरफ हाहाकार की स्थिति उत्पन्न हुई है। इस वायरस से लड़ने को लेकर अनेक टीके बने है, लेकिन जिस प्रकार हर दिन कोरोना के नये स्ट्रेन सामने आ रहे है, वो किसी भी देश और उसके वैज्ञानिकों के लिए चुनौती भरा है। एक तरफ जहां इस वायरस को सोशलिजिस्ट मानव समाज की लालच स्वभाव बता रहे है, तो वहीं कई लोग इसे नये आधुनिक तकनीक 5G से जोड़कर देख रहे है।

इन्हीं सब परेशानियों को देखते हुए वैज्ञानिकों ने एक और बड़ा अलर्ट जारी किया है और कहा है कि अगर अब भी मानव जंगलों का दोहन और जंगली जानवरों का शिकार करना नहीं छोड़ेगे, तो आने वाले समय में इससे भी बड़ी महामारी का खतरा पैदा हो चुका है। वैज्ञानिकों का कहना है कि अमेजन के जंगलों में मिला एक वायरस अबतक की सबसे बड़ी महामारी लाने की ताकत रखता है।

ऐसे हुई इस खतरनाक वायरस की खोज

ब्राजील के मानौस (Manaus) स्थित फेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ अमेजोनास के बायोलॉजिस्ट मार्सेलो गोर्डो और उनकी टीम ने कूलर के अंदर से तीन पाइड टैमेरिन बंदरों की सड़ी हुई लाश बरामद की थी। जिसे फियोक्रूज अमेजोनिया बायोबैंक भेज दिया गया था। यहां जीव विज्ञानी अलेसांड्रा नावा ने बंदरों के सैंपल से पैरासिटिक वॉर्म्स, वायरस और अन्य संक्रामक एजेंट्स की खोज की। अलेसांड्रा ने बताया कि मानौस और ब्राजील में एक खतरा मंडरा रहा है योडा-फेस्ड पाइड टैमेरिन बंदर (Yoda-faced pied tamarin Monkey) से। ये बंदर पूरे ब्राजील में पाया जाता है। इसी प्रजाति के बंदर से ये वायरस मिला है, जो बेहद संक्रामक है। ये वायरस कोरोना महामारी से भी खतरनाक महामारी लाने की ताकत रखता है।

 

दक्षिण अमेरिकी देशों में तेजी से फैल रहा

साइंस जर्नल के मुताबिक, अलेसांड्रा और उनकी टीम एक और वायरस को लेकर चिंतित हैं। इस वायरस का नाम है मायारो वायरस (Mayaro Virus)। यह वायरस अब तेजी से दक्षिण अमेरिकी देशों में फैल रहा है। इसके संक्रमण से फ्लू जैसे लक्षण दिखते हैं। सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि अगर किसी इंसान को संक्रमित करता है तो डॉक्टर यह पता करने में परेशान हो जाएंगे कि यह मायारो वायरस है, या मरीज को चिकनगुनिया या डेंगू हुआ है। क्योंकि ये वायरस लगातार शरीर के प्रतिरोधक क्षमता को धोखा देता है। अलेसांड्रा ने कहा कि ब्राजील में अगला सबसे बड़ा मायारो वायरस (Mayaro Virus) का है।

कभी भी इंसानों में आकर बड़ी महामारी का रूप ले सकता है

गौरतलब है कि ब्राजील के मानौस के चारों तरफ अमेजन के जंगल हैं। कई सौ किलोमीटर तक फैले हुए मानौस में 22 लाख लोग रहते हैं। दुनियाभर में मौजूद 1400 चमगादड़ों की प्रजातियों में से 12 फीसदी सिर्फ अमेजन जंगल में रहते हैं। इसके अलावा बंदरों और चूहों की कई ऐसी प्रजातियां भी रहती हैं, जिन पर वायरस, पैथोजेन्स और बैक्टीरिया या पैरासाइट रहते हैं। ये कभी भी इंसानों में आकर बड़ी महामारी का रूप ले सकते हैं। मानौस में कोरोना वायरस के दो बड़ी और खतरनाक लहर आ चुकी है। जिसकी वजह से इस शहर में अब तक 9000 लोगों की मौत हो चुकी है। इन सबके पीछे का कारण है शहरीकरण, सड़कें बनाना, डैम बनाना, खदान बनाना और जंगलों को काटना।

Load More In देश
Comments are closed.