Home उत्तर प्रदेश कोरोना से मौत से पहले भाजपा पदाधिकारी ने किया मैसेज,जानिए उनका आखरी मैसेज

कोरोना से मौत से पहले भाजपा पदाधिकारी ने किया मैसेज,जानिए उनका आखरी मैसेज

0 second read
0
64

यूपी के मुरादाबाद में बीजेपी पार्षद की मौत के बाद टीमयू कोविड सेंटर सवालों के घेरे में है। बीजेपी के महानगर मंत्री और पार्षद राकेश खरे की 8 सितंबर को कोरोना से मौत हो गई थी। मौत से पांच घंटे पहलेराकेश खरे ने अस्पताल को कठघरे में खड़ा करते हुए एक मेसेज लिखा था। मेसेज भेजने के पांच घंटे के अंदर ही उनकी मौत होने से अस्पताल पर सवाल उठ रहे हैं।

बीजेपी के महानगर मंत्री और पार्षद राकेश खरे ने अपनी मौत से पहले वॉट्सऐप पर पार्टी के महानगर अध्यक्ष धर्मेंद्र नाथ मिश्रा को एक मेसेज भेजा था। इसमें उन्होंने लिखा, अध्यक्ष जी यहां यह स्थिति है कि कोई डॉक्टर नहीं है।

यह लोग अपना रिसर्च कर रहे हैं। मुझे अच्छे में ही मार डालेंगे। मुझे बचा लीजिए,आज की रात कठिन है।’ लेकिन दुखद पहलू यह रहा कि बीजेपी पार्षद राकेश को बचाया नहीं जा सका। मेसेज भेजने के पांच घंटे बाद ही उनकी अस्पताल में सांसें धम गईं।

परिजनों ने की जांच की मांग की मौत से पांच घंटे पहले भाजपा महानगर अध्यक्ष को भेजे गए इस मैसेज में राकेश खरे ने लिखा था, अध्यक्ष जी, यहां यह स्थिति है कि कोई डॉक्टर नहीं है, सभी अपना रिसर्च कर रहे हैं।

मुझे अच्छे में ही मार डालेंगे। मुझे बचा लीजिए, आज की रात कठिन है। 50 वर्षीय राकेश खरे कोरोना संक्रमित होने के बाद इलाज के लिए 29 सितंबर से टीएमयू में भर्ती थे। पत्नी लक्ष्मी ने बताया कि पति राकेश खरे का मोबाइल वो चेक कर रही थीं तो उनको महानगर अध्यक्ष को भेजा गया मैसेज दिखा।

कहा कि इस मैसेज में इलाज में गड़बड़ी की बात उन्होंने लिखी है, इसकी जांच होनी चाहिए। राकेश खरे के पिता ने कहा कि उनका बेटा भाजपा का कर्मठ और जुझारू कार्यकर्ता था। वह परिवार का इकलौता कमाने वाला था। कहा कि बेटे की मौत की जांच की मांग को लेकर वे भाजपा पदाधिकारियों और अफसरों से मिलेंगे।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.