Home देश यमन: एक साल से कैद थे 9 भारतीय मछुआरे, नाव चुराकर भागे, 10 दिन में पहुंचे भारत

यमन: एक साल से कैद थे 9 भारतीय मछुआरे, नाव चुराकर भागे, 10 दिन में पहुंचे भारत

2 second read
0
13

केरल के रहने वाले दो और तमिलनाडु के 7 मछुआरे बीते एक साल से यमन में उत्पीड़न का शिकार हो रहे थे। किसी तरह उन्होंने अपने मालिक की बोट को चुराया और उसमें सवार होकर निकल पड़े। लगातार 10 दिनों तक 3,000 किलोमीटर लंबा समुद्री सफर तय करने के बाद वे किसी तरह भारत आ सके।

दरअसल, 13 दिसंबर 2018 को ये मछुआरे तिरुवनंतपुरम से निकल कर किसी ऐसी जगह की तलाश में थे जहां ज्यादा से ज्यादा मछलियां पकड़ सकें। लेकिन इसी दौरान उन्हें एक यमन एंप्लॉयर ने झांसा देकर एक तरह से बंधक बना लिया। वह उन्हें नाव में ही रखता था और ज्यादा से ज्यादा काम करवाता था। इसके बदले में उन्हें खाने के अलावा कुछ नहीं मिलता था।

किसी तरह मालिक की नाव चुराकर ये 9वों मछुआरें यमन से निकल पड़े। लेकिन सफर लंबा था और वतन वापस पहुंच पाएंगे या नहीं, इसका कोई अंदाजा नहीं था। जैसे-जैसे जिदंगी उन्हें आगे ले जा रही थी वो चलते जा रहे थे और लगातार कई दिनों का और कई मिलों का समुंद्री सफर तय करने के बाद ये मछुआरे भारत पहुचें, जहां उन्होंने राहत की सांस ली। ऐसा लगा मानों बरसों बाद जिंदगी मुकम्मल हुई हो। सभी ने भारतीय सरजमीं पर पैर रखते ही घुटनों के बल बैठ गए। उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

बताते चले कि, कोच्चि के तट से 75 समुद्री किलोमीटर यानी 138 किलोमीटर की दूरी पर भारतीय कोस्ट गार्ड के जवान अल थिराया बोट में सवार हुए थे। यह बोट शुक्रवार को दोपहर 1:15 बजे कोच्चि के तट पर पहुंची। इस बोट के बारे में कोस्ट गार्ड ने डॉर्नियर एयरक्राफ्ट को जानकारी मिली थी।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.